Shankar Ji Ki Aarti

Shankar Ji Ki Aarti | शिव शंकर जी की आरती

Shankar Ji Ki Aarti | शिव शंकर जी की आरती करें और भगवान् शिव शंकर की परम कृपा प्राप्त करें. शिव शंकर जी की ॐ जय शिव ओमकारा आरती बहुत ही प्रसिद्ध आरती है. आप इस आरती से भगवान् शिव जी की आराधना और स्तुति करें.

भगवान शिव की बहुत सी आरतियाँ हैं, जिनका संग्रह हमने किया है इसके लिए आप हमारे निचे दिए गए पोस्ट को देखें.

Shiv Ji Ki Aartiyan – शिव जी की आरतियाँ

Shankar Ji Ki Aarti

Om Jai Shiv Omkara Aarti Video

शिव शंकर जी की आरती

जय शिव ओंकारा

जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा ।
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा ॥
ॐ जय शिव ओंकारा…………..

एकानन चतुरानन पंचानन राजे ।
हंसासन गरूड़ासन वृषवाहन साजे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा……………

दो भुज चार चतुर्भुज दसभुज अति सोहे ।
त्रिगुण रूप निरखते त्रिभुवन जन मोहे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा………….

अक्षमाला वनमाला मुण्डमाला धारी ।
त्रिपुरारी कंसारी कर माला धारी ॥
ॐ जय शिव ओंकारा………………

श्वेतांबर पीतांबर बाघंबर अंगे ।
सनकादिक गरुणादिक भूतादिक संगे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा………………

कर के मध्य कमंडलु चक्र त्रिशूलधारी ।
सुखकारी दुखहारी जगपालन कारी ॥
ॐ जय शिव ओंकारा……………..

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका ।
प्रणवाक्षर में शोभित ये तीनों एका ॥
ॐ जय शिव ओंकारा………………

लक्ष्मी व सावित्री पार्वती संगा ।
पार्वती अर्द्धांगी, शिवलहरी गंगा ॥
ॐ जय शिव ओंकारा……………..

पर्वत सोहैं पार्वती, शंकर कैलासा ।
भांग धतूर का भोजन, भस्मी में वासा ॥
ॐ जय शिव ओंकारा……………

जटा में गंग बहत है, गल मुण्डन माला ।
शेष नाग लिपटावत, ओढ़त मृगछाला ॥
ॐ जय शिव ओंकारा……………….

काशी में विराजे विश्वनाथ, नंदी ब्रह्मचारी ।
नित उठ दर्शन पावत, महिमा अति भारी ॥
ॐ जय शिव ओंकारा………………

त्रिगुणस्वामी जी की आरति जो कोइ नर गावे ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख संपति पावे ॥
ॐ जय शिव ओंकारा……………..

शंकर जी की आरती हिंदी पीडीऍफ़

भगवान शंकर जी की आरती को पीडीऍफ़ में डाउनलोड करने के लिए आप निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें. इससे आप डाउनलोड पेज पर चले जायेंगे. जहाँ से आप इसे डाउनलोड कर पायेंगे. आप इसे सीधे प्रिंट भी कर सकतें हैं.

Shankar Ji Ki Aarti Hindi PDF

Importance of Shankar Ji Ki Aarti

भगवान श्री शिव शंकर भोलेनाथ की आरती करना हमेशा ही शुभ फलदायक होता है. शिव शंकर की आरती करने से मन शांत रहता है. भगवान शिव शंकर की कृपा उस व्यक्ति पर रहती है जी सम्पूर्ण भक्ति के साथ बाबा भोलेनाथ की आरती करता है.

अपने ह्रदय को बाबा शिव शंकर में लगा कर रखें. बाबा आपका कल्याण अवस्य करेंगे.

सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ शंकर जी की आरती करने से मनुष्य के सभी पापों का नाश होता है.

जीवन में सुख और शान्ति आती है. धन धान्य की प्राप्ति बाबा भोले की कृपा से होती है.

रोगों और कष्टों से मुक्ति बाबा भोले शंकर की कृपा से मिलती है.

यह आरती एक प्रसिद्ध आरती है. इस आरती के साथ आप बाबा भोलेनाथ शिव शंकर की आरती करें और औघरदानी बाबा भोलेनाथ आप पर अपनी कृपा दृष्टि बरसाएंगे.

शंकर भगवान की आरती में अगर कहीं भी किसी प्रकार की त्रुटी हो तो आप हमें निचे कमेंट बॉक्स में लिखें. हम अवस्य ही उस त्रुटी को ठीक करेंगे.

हमारे अन्य प्रकाशनों को भी अवस्य पढ़ें.

श्री शिव गायत्री मंत्र – Shiv Gayatri Mantra

शिव चालीसा – Shiv Chalisa

शिव चालीसा पीडीऍफ़ – Shiv Chalisa Hindi PDF

नर्मदा जी की आरती – Narmada Ji Ki Aarti

हनुमान जी की आरती – Hanuman Ji Ki Aarti

हनुमान चालीसा – Hanuman Chalisa

और पढ़ें:

Leave a Comment