Anantnath Chalisa : अनंतनाथ चालीसा

Anantnath Chalisa : अनंतनाथ चालीसाजैन धर्म के 14वें तीर्थंकर श्री अनंतनाथ जी की आराधना और स्तुति के लिए श्री अनंतनाथ चालीसा का पाठ श्रद्धा और भक्ति के साथ करें.

श्री अनंतनाथ जी ने अयोध्या में जन्म लिया था. उनके पिता सिंहसेन और माता सुयशा थी. अनंतनाथ जी ने इक्ष्वाकु वंश में जन्म लिया था.

पोस्ट कंटेंट्स
 [show]

    Anantnath Chalisa : श्री अनंतनाथ चालीसा

    shri anantnath

    || श्री अनंतनाथ चालीसा ||

    अनन्त चतुष्टय धारी ‘अनन्त, अनन्त गुणों की खान “अनन्त’ ।

    सर्वशुध्द ज्ञायक हैं अनन्त, हरण करें मम दोष अनन्त ।

    नगर अयोध्या महा सुखकार, राज्य करें सिहंसेन अपार ।

    सर्वयशा महादेवी उनकी, जननी कहलाई जिनवर की ।

    द्वादशी ज्येष्ठ कृष्ण सुखकारी, जन्मे तीर्थंकर हितकारी ।

    इन्द्र प्रभु को गोद में लेकर, न्हवन करें मेरु पर जाकर ।

    नाम “अनन्तनाथ’ शुभ बीना, उत्सव करते नित्य नवीना ।

    सार्थक हुआ नाम प्रभुवर का, पार नहीं गुण के सागर का ।

    वर्ण सुवर्ण समान प्रभु का, जान धरें मति- श्रुत- अवधि का ।

    आयु तीस लख वर्ष उपाई, धनुष अर्घशन तन ऊंचाई ।

    बचपन गया जवानी आई, राज्य मिला उनको सुखदाई ।

    हुआ विवाह उनका मंगलमय, जीवन था जिनवर का सुखमय ।

    पन्द्रह लाख बरस बीते जब, उल्कापात से हुए विरत तब ।

    जग में सुख पाया किसने-कब, मन से त्याग राग भाव सब ।

    बारह भावना मन में भाये, ब्रह्मर्षि वैराग्य बढाये ।

    “अनन्तविजय” सुत तिलक-कराकर, देवोमई शिविका पधरा कर ।

    गए सहेतुक वन जिनराज, दीक्षित हुए सहस नृप साथ ।

    द्वादशी कृष्ण ज्येष्ठ शुभ मासा, तीन दिन का धारा उपवास ।

    गए अयोध्या प्रथम योग कर, धन्य ‘विशाख’ आहार करा कर ।

    मौन सहित रहते थे वन में, एक दिन तिष्ठे पीपल- तल में ।

    अटल रहे निज योग ध्यान मेँ, झलके लोकालोक ज्ञान मेँ ।

    कृष्ण अमावस चैत्र मास की, रचना हुई शुभ समवशरण की ।

    जिनवर की वाणी जब खिरती, अमृत सम कानों को लगती ।

    चतुर्गति दुख चित्रण करते, भविजन सुन पापों से डरते ।

    जो चाहो तुम मुयित्त पाना, निज आतम की शरण में जाना ।

    सम्यग्दर्शन-ज्ञान-चरित हैँ, कहे व्यवहार मेँ रतनत्रय हैं ।

    निश्चय से शुद्धातम ध्याकर, शिवपट मिलना सुख रत्नाकर ।

    श्रद्धा करके भव्य जनों ने, यथाशक्ति व्रत धारे सबने ।

    हुआ विहार देश और प्रान्त, सत्पथ दर्शाये जिननाथ ।

    अन्त समय गए सम्मेदाचल, एक मास तक रहे सुनिश्चल ।

    कृष्ण चैत्र अमावस पावन, भोक्षमहल पहुंचे मनभावन ।

    उत्सव करते सुरगण आकर, कूट स्वयंप्रभ मन में ध्याकर ।

    शुभ लक्षण प्रभुवर का ‘सेही’, शोभित होता प्रभु- पद में ही ।

    हम सब अरज करे बस ये ही, पार करो भवसागर से ही ।

    है प्रभु लोकालोक अनन्त, झलकें सब तुम ज्ञान अनन्त ।

    हुआ अनन्त भवों का अन्त, अद्भुत तुम महिमां है “अनन्त’ ।

    श्री अनंतनाथ चालीसा का पाठ करने के पश्चात Anantnath Aarti – 14 वें तीर्थंकर श्री अनंतनाथ की आरती अवस्य करें.

    भगवान पार्श्वनाथ जी की आराधना करें Parshwanath Chalisa | श्री पार्श्वनाथ चालीसा

    विडियो

    श्री अनंतनाथ चालीसा (Shri Anantnath Chalisa) यूट्यूब विडियो हमने इस पोस्ट में प्रकाशित किया हुआ है. इस विडियो का आप यहीं प्ले बटन दबाकर देख सकतें हैं.

    श्री अनंतनाथ चालीसा

    विडियो श्रोत – यूट्यूब

    इस पोस्ट में किसी भी प्रकार के सुधार के लिए या फिर आपके कोई सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकतें हैं.

    श्री अनंतनाथ जी ने किस वंश में और कहाँ जन्म लिया था?

    श्री अनंतनाथ जी ने इक्ष्वाकु वंश में अयोध्या में जन्म लिया था.

    कुछ अन्य प्रकाशन –

    Chandra Prabhu Chalisa चन्द्र प्रभु चालीसा

    Shri Suparshvanath Chalisa | श्री सुपार्श्वनाथ चालीसा | Suparasnath Chalisa

    Shantinath Chalisa श्री शांतिनाथ भगवान चालीसा

    Sumatinath Chalisa पांचवें तीर्थंकर श्री सुमतिनाथ की चालीसा

    Shri Pushpdant Chalisa श्री पुष्पदन्त चालीसा

    Adinath Chalisa आदिनाथ चालीसा – प्रथम तीर्थंकर की आराधना

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.