Jinvani Mata Ki Aarti जिनवाणी माता की आरती

Jinvani Mata Ki Aarti जिनवाणी माता की आरती – इस पोस्ट में हम जिनवाणी माता की आरती का प्रकाशन कर रहें हैं.

24 तीर्थंकर की स्तुति के लिए 24 Tirthankar ki Aarti | चौबीस तीर्थंकर की आरती अवस्य करें.

Jinvani Mata Ki Aarti जिनवाणी माता की आरती

ॐ जय जिनवाणी माता, ॐ जय जिनवाणी माता,

तुमको निशदिन ध्यावे, सुरनर मुनि ज्ञानी ॥

ॐ जय जिनवाणी माता, ॐ जय जिनवाणी माता,

तुमको निशदिन ध्यावे, सुरनर मुनि ज्ञानी ॥

श्री जिनगिरिथी निकसी, गुरु गौतम वाणी,

जीवन भ्रम तम नाशन, दिपक दरशाणी ॥

ॐ जय जिनवाणी माता……

कुमत कुलाचल चूरन, वज्र सम सरधानी।

नव नियोग निक्षेपन, देखत दरपानी ॥

ॐ जय जिनवाणी माता……

पातक पंक पखालन, पुन्य परम वाणी।

मोह महार्णव डूबता, तारन नौकाणी ॥

ॐ जय जिनवाणी माता……

लोका लोक निहारन​, दिव्य नयन स्थानी।

निज पर भेद दिखावन, सुरज किरणानी ॥

ॐ जय जिनवाणी माता……

श्रावक मुनिगण जननी, तुम ही गुणखानी।

सेवक लख सुखदायक, पावन परमाणी ॥

ॐ जय जिनवाणी माता……

ॐ जय जिनवाणी माता, ॐ जय जिनवाणी माता,

तुमको निश दिन ध्यावे, सुरनर मुनि ज्ञानी॥

ॐ जय जिनवाणी माता……

पंच परमेष्ठी की स्तुति करें Panch Parmeshthi Ki Aarti | पंच परमेष्ठी की आरती के माध्यम से.

विडियो

जिनवाणी माता से संबंद्धित यूट्यूब विडियो हमने निचे दिया हुआ है. प्ले बटन दबाकर इस विडियो को देखा जा सकता है.

कुछ अन्य प्रकाशन –

Ajitnath Bhagwan Ki Aarti अजितनाथ भगवान की आरती

Munisuvratnath Aarti | मुनिसुव्रतनाथ भगवान की आरती

Shreyansnath Bhagwan ki Aarti श्रेयांसनाथ भगवान आरती

Vasupujya Bhagwan ki Aarti श्री वासुपूज्य भगवान की आरती

Leave a Reply

Your email address will not be published.