Padmavati Mata Ki Aarti | पदमावती माता की आरती

Padmavati Mata Ki Aarti | पदमावती माता की आरतीजैन धर्म में पदमावती माता की बहुत अधिक धार्मिक मान्यता है. देवी पदमावती जैन धर्म के 23वें तीर्थंकर श्री पार्श्वनाथ जी की अधिष्ठायिका देवी हैं.

धार्मिक मान्यता के अनुसार जो कोई भी श्री पार्श्वनाथ जी की आराधना और स्तुति करता है उस पर पदमावती माता की परम कृपा हमेशा बनी रहती है.

पदमावती माता अपने भक्तों की हमेशा ही सहायता करतीं हैं.

इस पोस्ट में हम पदमावती माता की स्तुति के लिए उनकी आरती का प्रकाशन कर रहें हैं. सम्पूर्ण भक्ति भावना के साथ पदमावती माता की आरती करें.

Padmavati Mata Ki Aarti | पदमावती माता की आरती

Padmavati Mata
पद्मावती माता

|| देवी पद्मावती की आरती ||

पद्मावती माता दर्शन की बलिहारियाँ ।
चक्रेश्वरी माता दर्शन की बलिहारियाँ ।।

पार्श्वनाथ महाराज बिराजै ,मस्तक ऊपर थारे ।
मैया मस्तक ऊपर थारे,

इन्द्र फणेन्द्र नरेन्द्र सभी माँ, खड़े रहें नित द्धारे ।।

पद्मावती माता दर्शन की बलिहारियाँ …….

जो जीव थारो शरणो लीनों ,सब संकट हर लीनों, ।
मैया सब संकट हर लीनों,

पुत्र पौत्र धन सम्पति देकर ,मंगलमय कर दीनों ।।

पद्मावती माता दर्शन की बलिहारियाँ…….

डाकन शाकिन भूत भवानी , नाम लेत भग जायें ।
मैया नाम लेत भग जायें,

वात, पित्त, कफ रोग मिटे और, तन सुखमय हो जाये ।

पद्मावती माता दर्शन की बलिहारियाँ…….

जब जब भीड पडी भक्तों पर , रक्षा आपने कीनीं ।
मैया रक्षा आपने कीनीं,

बैरी का अभिमान घटा कर , इज़्ज़त सबको दीनी ।

पद्मावती माता दर्शन की बलिहारियाँ…….

दीप, धूप और पुष्पहार ले, मैं दर्शन को आयो ।
मैया मैं दर्शन को आयो,

दर्शन कर के मात तुम्हारे, मन वांछित फल पायो ।।

पद्मावती माता दर्शन की बलिहारियाँ ।
चक्रेश्वरी माता दर्शन की बलिहारियाँ ।।

श्री पार्श्वनाथ भगवान की भी स्तुति करें Parshwanath Aarti – श्री पार्श्वनाथ भगवान की आरती

विडियो

पद्मावती माता की आरती (Padmavati Mata Ki Aarti) यूट्यूब विडियो इस पोस्ट में दिया हुआ है. इसे देखने के लिए प्ले बटन को दबाएँ.

पद्मावती माता की आरती

विडियो श्रोत – यूट्यूब

पद्मावती माता कौन हैं?

पद्मावती माता जैन धर्म के 23वें तीर्थंकर श्री पार्श्वनाथ जी की अधिष्ठायिका देवी हैं. धार्मिक मान्यता है की जो कोई भी श्री पार्श्वनाथ जी की स्तुति करता है उसकी सहायता माता पद्मावती हमेशा करतीं हैं.

कुछ अन्य प्रकाशन –

24 Tirthankar ki Aarti | चौबीस तीर्थंकर की आरती

Panch Parmeshthi Ki Aarti | पंच परमेष्ठी की आरती

Om Jai Mahavir Prabhu Aarti – ॐ जय महावीर प्रभु आरती

Mahavir Aarti – ॐ जय सन्मति देवा

Leave a Reply

Your email address will not be published.