Siddhachakra Aarti | सिद्धचक्र की आरती

Siddhachakra Aarti | सिद्धचक्र आरती – सिद्धचक्र का जैन धर्म में बहुत अधिक धार्मिक महत्व है. सिद्धचक्र को अत्यंत ही पवित्र और शुभ माना जाता है.

इस पोस्ट में हम सिद्धचक्र की आरती का प्रकाशन कर रहें हैं. सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति भावना के साथ सिद्धचक्र की आरती करिये.

Contents
 [show]

    Siddhachakra Aarti | सिद्धचक्र आरती

    Siddhachakra
    Siddhachakra
    AnonymousUnknown author, Public domain, via Wikimedia Commons

    || सिद्धचक्र की आरती ||

    जय सिद्धचक्र देवा, जय सिद्धचक्र देवा |
    करत तुम्हारी निश-दिन, मन से सुर-नर-मुनि सेवा |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    ज्ञानावरणी दर्शनावरणी मोह अंतराया,
    नाम गोत्र वेदनीय आयु को नाशि मोक्ष पाया |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    ज्ञान-अनंत अनंत-दर्श-सुख बल-अनंतधारी,
    अव्याबाध अमूर्ति अगुरुलघु अवगाहनधारी |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    तुम अशरीर शुद्ध चिन्मूरति स्वात्मरस-भोगी,
    तुम्हें जपें आचार्योपाध्याय सर्व-साधु योगी |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    ब्रह्मा विष्णु महेश सुरेश, गणेश तुम्हें ध्यावें,
    भवि-अलि तुम चरणाम्बुज-सेवत निर्भय-पद पावें |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    संकट-टारन अधम-उधारन, भवसागर तरणा,
    अष्ट दुष्ट-रिपु-कर्म नष्ट करि, जन्म-मरण हरणा |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    दीन दु:खी असमर्थ दरिद्री, निर्धन तन-रोगी,
    सिद्धचक्र का ध्यान भये ते, सुर-नर-सुख भोगी |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    डाकिनि शाकिनि भूत पिशाचिनि, व्यंतर उपसर्गा,
    नाम लेत भगि जायँ छिनक, में सब देवी दुर्गा |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    बन रन शत्रु अग्नि जल पर्वत, विषधर पंचानन,
    मिटे सकल भय,कष्ट हरे, जे सिद्धचक्र सुमिरन |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    मैनासुन्दरि कियो पाठ यह, पर्व-अठाइनि में,
    पति-युत सात शतक कोढ़िन का, गया कुष्ठ छिन में |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    कार्तिक फाल्गुन साढ़ आठ दिन, सिद्धचक्र-पूजा,
    करें शुद्ध-भावों से ‘मक्खन’, लहे न भव-दूजा |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    ज्ञानावरणी दर्शनावरणी मोह अंतराया,
    नाम गोत्र वेदनीय आयु को नाशि मोक्ष पाया |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    ज्ञान-अनंत अनंत-दर्श-सुख बल-अनंतधारी,
    अव्याबाध अमूर्ति अगुरुलघु अवगाहनधारी |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    तुम अशरीर शुद्ध चिन्मूरति स्वात्मरस-भोगी,
    तुम्हें जपें आचार्योपाध्याय सर्व-साधु योगी |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    ब्रह्मा विष्णु महेश सुरेश, गणेश तुम्हें ध्यावें,
    भवि-अलि तुम चरणाम्बुज-सेवत निर्भय-पद पावें |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    संकट-टारन अधम-उधारन, भवसागर तरणा,
    अष्ट दुष्ट-रिपु-कर्म नष्ट करि, जन्म-मरण हरणा |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    दीन दु:खी असमर्थ दरिद्री, निर्धन तन-रोगी,
    सिद्धचक्र का ध्यान भये ते, सुर-नर-सुख भोगी |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    डाकिनि शाकिनि भूत पिशाचिनि, व्यंतर उपसर्गा,
    नाम लेत भगि जायँ छिनक, में सब देवी दुर्गा |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    बन रन शत्रु अग्नि जल पर्वत, विषधर पंचानन,
    मिटे सकल भय,कष्ट हरे, जे सिद्धचक्र सुमिरन |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    मैनासुन्दरि कियो पाठ यह, पर्व-अठाइनि में,
    पति-युत सात शतक कोढ़िन का, गया कुष्ठ छिन में |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    कार्तिक फाल्गुन साढ़ आठ दिन, सिद्धचक्र-पूजा,
    करें शुद्ध-भावों से ‘मक्खन’, लहे न भव-दूजा |

    जय सिद्धचक्र देवा ……

    पंच परमेष्ठी की स्तुति करें – Panch Parmeshthi Ki Aarti | पंच परमेष्ठी की आरती

    विडियो

    सिद्धचक्र की आरती (Siddhachakra Ki Aarti) यूट्यूब विडियो निचे दिया हुआ है. इसे देखने के लिए प्ले का बटन दबाएँ.

    सिद्धचक्र की आरती

    आप सब अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकतें हैं. आपके विचारों से हमें और बेहतर की प्रेरणा मिलती है.

    कुछ अन्य प्रकाशनों की सूचि –

    Padmavati Mata Ki Aarti | पदमावती माता की आरती

    Shri Ghantakarna Mahavir Ji Aarti श्री घंटाकर्ण महावीर जी आरती

    बाहुबली भगवान की आरती : Bahubali Bhagwan Ki Aarti

    नाकोड़ा भैरव जी की आरती Nakoda Bhairav Aarti

    Saraswati Mata Ni Aarti | सरस्वती माता नी आरती

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.