Shiv ji ki Aartiyan

शिव जी की आरतीयाँ Shiv Ji Ki Aartiyan भगवान् शिव की समस्त आरतियों का संग्रह

This post contains collections of all the Aarti Of Shiv Ji, इस पोस्ट में शिव जी की आरतियों का संग्रह ( Shiv Ji Ki Aartiyan ) दिया गया है. इन्हें आप हिंदी और इंग्लिश में पढ़ सकतें हैं. साथ ही विडियो भी दी गयी है. इसके साथ ही इसमें डाउनलोड बटन भी दिया गया है.आप इसे डाउनलोड भी कर सकतें हैं.

आप सभी शिव भक्त शिव चालीसा /Shiv Chalisa Lyrics का पाठ भी अवस्य करें. इसके लिए आप शिव चालीसा पीडीऍफ़ Shiv Chalisa Hindi PDF को डाउनलोड कर सकतें हैं.

Shiv Ji Ki Aartiyan शिव जी की आरतियाँ

शिव जी की बहुत सारी आरतियाँ ( Shiv Ji Ki Aartiyan ) प्रचलित हैं. सभी आरतियों का मकसद भगवान् शिव की स्तुति और आराधना करना ही है.आप इनमे से किसी भी आरती को गा कर भगवान् श्री महादेव शिव की आराधना और स्तुति कर सकतें हैं.

प्रभु श्री राम जी की स्तुति ( Ram Stuti ) भी आप अवस्य करें.

शिव जी की आरती

Shiv Ji Ki Aartiyan : om jai shiv omkara

ॐ जय शिव ओमकारा आरती

ॐ जय शिव ओमकारा आरती विडियो

कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारं|
सदा वसन्तं ह्रदयाविन्दे भंव भवानी सहितं नमामि॥

जय शिव ओंकारा, भर हर शिव ओंकारा
ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥
ॐ जय शिव ओंकारा….

एकानन चतुरानन पंचांनन राजै|
हंसासंन, गरुड़ासन, वृषवाहन साजै॥
ॐ जय शिव ओंकारा…

दो भुज चार चतुर्भुज दस भुज अति सोहै|
तीनों रुप निरखते त्रिभुवन मन मोहे॥
ॐ जय शिव ओंकारा…

अक्षमाला, वनमाला, मुण्डमाला धारी|
चंदन, मृदमग चंदा, सोहै त्रिपुरारी॥
ॐ जय शिव ओंकारा….

श्वेताम्बर, पीताम्बर, बाघम्बर अंगें|
सनकादिक, ब्रम्हादिक, भूतादिक संगें||
ॐ जय शिव ओंकारा…

कर के मध्ये कमंडलु, चक्र त्रिशूल धारी|
सुखकारी दुखहारी जगपालन कारी ||
ॐ जय शिव ओंकारा…

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका|
प्रवणाक्षर में शोभित ये तीनों एका॥
ॐ जय शिव ओंकारा…

त्रिगुण शिवजी की आरती जो कोई नर गावें|
कहत शिवानंद स्वामी सुख सम्पति पावें॥
ॐ जय शिव ओंकारा…

जय शिव ओंकारा भर हर शिव ओंकारा|
ब्रह्मा विष्णु सदाशिव अद्धांगी धारा॥
ॐ जय शिव ओंकारा.

Shiv Ji Ki Aarti : Om Jai Shiv OmKara

Shiv Ji Ki Aarti

Shiv ji ki Aarti

KarpurGauram Karunawataram Sansaarsaram Bhugendrahaaram,
Sada Wasntam Hridyawinde Bhawam Bhawani sahitam Namaami.

Jai Shiv Omakara, Bhar har Shiv Omkara,
Brahma, Vishnu, Sadashiv, Ardhangi Dhara.
Om Jai Shiv Omkara……..

Ekanana Chaturanan Panchanan Raajae,
Hansasan, Garudasan, Vrishwaahan Saajae.
Om Jai Shiv Omakara………….

Do Bhuj Char Chaturbhuj Das Bhuj Ati Sohae.
Tino Rup Nirakhate Tribhuvan Man Mohe.
Om Jai Shiv Omkara………

Akshmala, Wanmala, Mundmala Dhari,
Chandan, Mrigmad Chanda, Sohae Tripurari.
Om Jai Shiv Omkara………

Shwetambar, Pitambar, Baghambar Ange,
Sankadik, Brahmadik, Bhootadik Sange.
Om Jai Shiv Omkara……..

Kar Ke Madhye Kamandalu, Chakra trishul Dhaari,
Sukhkari Dukhhaari Jagpaalan Kaari.
Om Jai Shiv Omkara…….

Brahma Vishnu Sadashiv Jaanat Aviveka,
Pranwakshar Me Shobhit Ye Tino Eka.
Om Jai Shiv Omkara………

Trigun Shiv Ji Ki Aarti Jo Koi Nar Gawe,
Kahat Shivanand Swami Sukh Sampati Pawe.
Om Jai Shiv Omkara……..

Jai Shiv Omakara, Bhar Har Shiv Omkara.
Brahma Vishnu Sadashiv Ardhangi Dhara.
Om Jai Shiv Omkara.

Get Video

भगवान श्री शिव शंकर जी की आरती

Shankar Bhagwan ki Aarti

शंकर भगवान की आरती

शंकर भगवान् की आरती विडियो

आरती करो हरिहर की करो नटवर की ,
भोले शंकर की
आरती करो शंकर की |

ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय

सिर पर शशि का मुकुट संवारे,
तारों की पायल झनकारे
धरती अम्बर डोले तांडव
लीला से नटवर की
आरती करो शंकर की |

ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय

फन का हार पहनने वाले ,
शम्भू है जग के रखवाले |
सकल चराचर अगजग नाचे,
ऊँगली पर विषधर की |
आरती करो शंकर की ……

ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय

महादेव जय जय शिवशंकर,
जय गंगाधर जय डमरूधर |
हे देवो के देव मिटाओ,
विपदा घर घर की |
आरती करो शंकर की……..

ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय

आरती करो हरिहर की करो नटवर की ,
भोले शंकर की आरती करो शंकर की |
जय भोलेनाथ
हर हर महादेव ….

ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय

Shri Shiv Shankar Bhagwan Ki Aarti

Shiv Ji Ki Aartiyan : Aarti Karo Shankar Ki

Shri Bholenath Shankar Bhagwan Ki Aarti

Aarti Karo Hari Har Ki Karo,
Natwar Ki Bhole Shankar Ki.
Aarti Karo Shankar Ki….

Om Namah Shivay, Om Namah Shivay, Om Namah Shivay.

Aarti Karo Hari Har Ki Karo,
Natwar Ki Bhole Shankar Ki.
Aarti Karo Shankar Ki….

Om Namah Shivay, Om Namah Shivay, Om Namah Shivay.

Sar Par Shashi Ka Mukut Sakare
Taro Ki Payal Jhankare
Sar Par Shashi Ka Mukut Sakare
Taro Ki Payal Jhankare
Dharti Ambar Dole Tandaw Lila
Se Natwar Ki
Aarti Karo Shankar Ki
Aarti Karo Hari Har Ki Karo
Natwar Ki Bhole Shankar Ki
Aarti Karo Shankar Ki…..

Om Namah Shivay, Om Namah Shivay, Om Namah Shivay.

Fan Ka Har Pahnane Wale
Shambu Hai Jag Ke Rakhwale
Fan Ka Har Pahnane Wale
Shankar Hai Jag Ke Rakhwale

Sakal Chara Char Jag Hai
Ungli Par Vish Dharke
Aarti Karo Shankar Ki
Aarti Karo Hari Har Ki Karo
Natwar Ki Bhole Shankar Ki
Aarti Karo Shankar Ki…

Om Namah Shivay, Om Namah Shivay, Om Namah Shivay.

Mahadev Jai Jai Shiv Shankar
Jai Shiv Shankar
Jai Shiv Shankar
Jai Ganga Dhar Jai Damru Dhar
Jai Ganga Dhar Jai Damru Dhar
He Devo Ke Dev Mita Do
Tum Vipda Ghar Ghar Ki
Aarti Karo Hari Har Ki Karo
Natwar Ki Bhole Shankar Ki
Aarti Karo Shankar Ki….

Om Namah Shivay, Om Namah Shivay, Om Namah Shivay.

Aarti Karo Hari Har Ki Karo,
Natwar Ki Bhole Shankar Ki.
Aarti Karo Shankar Ki….

Om Namah Shivay, Om Namah Shivay, Om Namah Shivay.

शिव जी की आरती : शीश गंग अर्द्धांग पार्वती

शीश गंग अर्द्धांग पार्वती video

शीश गंग अर्द्धांग पार्वती,
सदा विराजत कैलासी ।

नंदी भृंगी नृत्य करत हैं,
धरत ध्यान सुर सुख रासी ॥

शीतल मन्द सुगन्ध पवन बहे,
वहाँ बैठे हैं शिव अविनाशी ।

करत गान-गन्धर्व सप्त स्वर,
राग रागिनी सब गासी ॥

यक्ष-रक्ष-भैरव जहँ डोलत,
बोलत हैं वनके वासी ।

कोयल शब्द सुनावत सुन्दर,
भ्रमर करत हैं गुंजा-सी ॥

कल्पद्रुम अरु पारिजात,
तरु लाग रहे हैं लक्षासी ।

कामधेनु कोटिक जहँ डोलत,
करत फिरत हैं भिक्षासी ॥

सूर्यकान्त सम पर्वत शोभित,
चन्द्रकान्त अवनी वासी।

छहों ऋतुनित फलत रहत हैं,
पुष्प चढ़त हैं वर्षासी॥

देव मुनिजन की भीड़ पड़त है,
निगम रहत जो नित गासी ।

ब्रह्मा, विष्णु जाको ध्यान धरत हैं,
कछु शिव हमको फरमासी ॥

ऋद्धि-सिद्धि के दाता शंकर,
सदा अनंदित सुखरासी ।

जिनको सुमिरन सेवा करते,
टूट जाय यम की फांसी ॥

त्रिशूलधर को ध्यान निरन्तर,
मन लगाय कर जो गासी ।

दूर करे विपता शिव तन की,
जन्म-जन्म शिवपद पासी ॥

कैलासी काशी के वासी,
अविनाशी मेरी सुध लीज्यो ।

सेवक जान सदा चरनन को,
आपन जान दरश दीज्यो ॥

तुम तो प्रभुजी सदा सयाने,
अवगुण मेरो सब ढकियो ।

सब अपराध क्षमाकर शंकर,
किंकर की विनती सुनियो ॥

शीश गंग अर्द्धांग पार्वती,
सदा विराजत कैलासी ।

नंदी भृंगी नृत्य करत हैं,
धरत ध्यान सुर सुख रासी ॥

Shiv Ji Ki Aarti Bhajan : Sheesh Gang Ardhang Parvati

Shiv Ji Ki Aartiyan : Sheesh Gang Ardhang Parvati

Sheesh Gang Ardhang Parvati,
Sada Wirajat Kailaashi.

Nandi Bhringi Nritya Karat Hain,
Dharat Dhyaan Sur Sukh Rasi.

Shital Mand Sugandh Pawan Bahe,
Wahan Baithe Hain Shiv Awinashi.

Karat Gaan Gandharv Sapt Swar,
Rag Ragini Sab Gaasi.

Yaksh Raksh Bhairav Jahan Dolat,
Bolat Hain Wan Ke Wasi.

Koyal Shabd Sunawat Sunder,
Bhramar Karat Hain Gunja Si.

Kalpdrum Aru Paarijaat,
Taru Laag Rahe Hain Lakshasi.

KaamDhenu Kotik Jahan Dolat,
Karat Firat Hain Bhikshasi.

Suryakant Sam Parwat Shobhit,
Chandrakant Awani Wasi.

Chhahon Ritunit Pfalat Rahat Hain,
Pushp Chadhat Hain Warshasi.

Dev Munijan Ki Bheer Parat hain,
Nigam Rahat Jo Nit Gaasi.

Brahma Vishnu Jaako Dhyaan Dharat Hain,
Kachhu Shiv Hamko Farmasi.

Riddhi Siddhi Ke Data Shankar,
Sada Anandit Sukhrasi.

Jinko Sumiran Sewa Karte,
Tut Jaay Yam Ki Faansi.

Trishuldhar Ko Dhyaan Nirantar,
Man Lagaay Kar Jo Gaasi.

Dur Kare Wipata Shiv Tan Ki,
Janam Janam Shivpad Paasi.

Kailasi Kaashi Ke Waasi,
Awinashi Meri Sudh Lijyo

Sewak Jaan Sada Charnan Ko,
Aapan Jaan Darash Dijyo.

Tum To Prabhuji Sada Sayaane,
Awgun Mero Sab Dhakiyo.

Sab Apraadh Kshmakar Shankar,
Kinkar Ki Winati Suniyo.

Sheesh Gang Ardhaang Parvati,
Sada Wirajat Kailaashi.

Nandi Bhringi Nritya Karat Hain,
Dharat Dhyaan Sur Sukh Raasi.

निवेदन

आशा है की आपको यह शिव जी की आरतियों ( Shiv ji ki Aartiyan )का संग्रह अवस्य पसंद आया होगा.

हमने इस आरती संग्रह के प्रकाशन में पूर्ण रूप से सावधानी रखी है. फिर भी अगर आप सब शिव भक्तों से हमारा नम्र निवेदन है की इस पोस्ट में अगर कहीं भी सुधार की आवश्यकता हो तो आप हमें निचे कमेन्ट बॉक्स में अवस्य लिखें.

हम उसे अवस्य सुधार करेंगे. हमारे अन्य प्रकाशनों को भी अवस्य देखें.

3 thoughts on “शिव जी की आरतीयाँ Shiv Ji Ki Aartiyan भगवान् शिव की समस्त आरतियों का संग्रह”

  1. I am in fact glad to read this weblog posts which includes tons of helpful facts, thanks for providing such statistics. Leslie Heindrick Mellar

    Reply

Leave a Comment